वर्डप्रेस एसईओ के लिए बिगिनर गाइड

343

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन एसईओ गुरुओं द्वारा प्रशिक्षित स्पेशलिस्ट के द्वारा किया जाने वाला जटिल, रहस्यमय और गुप्त अनुशासन है।  जब वर्डप्रेस एसईओ जैसे बहुत बार प्रयोग किए जाने वाले शब्द की बात हो तो  सत्य की खोज अनिवार्य हो जाती है। लेकिन एसईओ कोई रॉकेट साइंस नहीं है, कोई अनुबंध नहीं है, या और नहीं है जिसके बारे में किसी तरह की स्पेशल नॉलेज और बहुत पढ़ाई करने की आवश्यकता हो। बल्कि किसी भी साइट ओनर के लिए एसईओ बहुत सरल, सहज और सुलभ तकनीक है। जिसमें आपको बॉक्सेज़ में कुछ शब्द भरने होते हैं।

आज हम आपको ब्लॉगिंग के बेसिक्स में एसईओ के 5 सिम्प्ल टिप्स देंगे जो आपके ब्लॉग की सर्च रैंकिंग को बढ़ाकर आप तक अधिक से अधिक पाठक लाने में मदद करेगा और आपके ब्लॉगिंग के अनुभव को और भी सुखदायी बना देगा।

वर्डप्रेस एसईओ

वर्डप्रेस एसईओ की जानकारी

1. सही कीवर्ड का चयन करें

आप सोचते हैं कि आप नहीं जानते कि सर्च इंजन कैसे काम करता है, पर सच कुछ और ही है। आप सभी ने इंटरनेट सीखने के पहले दिन से लेकर अब तक लाखों बार सर्च इंजन में कुछ न कुछ खोजा होगा।  जैसे ही आप सर्च बॉक्स में कोई शब्द डालकर इंटर की प्रेस करते हैं, कुछ एक आध सेकेंड में आपको आपके शब्द से मिलते जुलते परिणाम दिखाई देते हैं।

इसलिए ज़रूरी है कि आप सही कीवर्ड का चयन करें, लेकिन वो भला कैसे? इसके लिए आपको इंटरनेट यूज़र्स की तरह सोचना होगा कि वो सर्च बॉक्स में बार बार क्या टाइप करते हैं? नहीं ऐसा करना कोई बुद्धिमानी नहीं होगी। इसकी बजाय आपको गूगल का कीवर्ड प्लानर प्रयोग करना चाहिए। जिसमें आपको अपनी पोस्ट से सम्बंधित सही और टॉप सर्च शब्द या वाक्य खोजना चाहिए। इस काम में आपको  कीवर्ड के बीच का कॉम्पटीशन और समय के साथ उनके ट्रेंड पर भी ध्यान देना चाहिए।

अब आपको निर्णय लेना कि आप किस कीवर्ड को चुनेंगे और किस तरह उसे अपनी पोस्ट में प्रयोग करेंगे। योस्ट द्वारा जारी वर्डप्रेस एसईओ प्लगिन आपको फ़ोकस कीवर्ड को अपनी पोस्ट में डालने और उसकी डेंसिटी को जांचने में बहुत मददगार होता है। अगर आप इसे प्रयोग नहीं कर रहे हैं तो आपको इसे अभी इंस्टाल कर लेना चाहिए।

2. एसईओ फ़्रेंडली पोस्ट टाइटल और परमालिंक बनायें

अच्छे वर्डप्रेस एसईओ के लिए पोस्ट टाइटल का बहुत अधिक महत्व है। ये न केवल सर्च इंजन से आपकी साइट तक पाठक पहुंचाते हैं बल्कि सर्च इंजन भी आपकी साइट क्राल करते समय इसे प्रयोग करते हैं। अगर सम्भव हो तो बिना 70 वर्ण की सीमा पार करे आपको पोस्ट टाइटल में कीवर्ड प्रयोग करना चाहिए।

इसके साथ ही आपको अपनी पोस्ट का परमालिंक भी एसईओ फ़्रेंडली रखना चाहिए, बजाय की आपकी पोस्ट यूआरएल में कोई डेट या फिर पढ़ने में न आने वाले वर्ण हों। इसके लिए आपको वर्डप्रेस में पहले कस्टम परमालिंक स्ट्रकचर सेट करना होगा। इसके बाद आप पोस्ट एडिटर में टाइटल के नीचे दिए एडिट बटन को क्लिक करके आप मनचाहा परमालिंक सेट कर पायेंगे।

3. पोस्ट कैटेगरी और टैग्स प्रयोग करें

जब आप एक बेहतरीन पोस्ट पब्लिश करने के लिए तैयारी करते हैं तो कैटगरी और टैग्स के बारे में सोचना भूल जाते हैं, अगर आप प्रयोग कर लें तो गूगल सर्च इंजन आपको इसके लिए ईनाम देगा। सही प्रकार से बनाई गई कैटेगरीज़ आपकी साइट के नेवीगेशन को अच्छा बनाते हैं और यूज़र्स को बांधकर रखते हैं। जिससे आपकी साइट पर ट्रैफ़िक बढ़ने की बहुत अधिक सम्भावना रहती है।

4. मेटा डिस्क्रिप्शन प्रयोग करना सीखें

अभी भी मतभेद है कि मेटा डिस्क्रिप्शन के प्रयोग से आपकी साइट की रैंकिंग बढ़ती है या नहीं, लेकिन हर पोस्ट में इसका प्रयोग करना फ़ायदेमंद रहता है, इसमें कोई दो राय नहीं है। गूगल एक्सपर्ट कहते हैं मेटा डिस्क्रिप्शन सर्च बॉट के लिए न होकर सर्च इंजन में सर्च करने वाले यूज़र के लिए होता है और जिसमें खोजे गए कीवर्ड को मोटा करके दिखाया जाता है। मेटा डिस्क्रिप्शन में भी चुने हुए कीवर्ड का प्रयोग होना चाहिए, जिसमें 155 वर्ण सीमा को निर्धारित किया गया है।

अगर आप किसी पोस्ट के लिए इसे सेट करना भूल जाते हैं तो गूगल स्वयं पोस्ट के पहले पैराग्राफ़ को क्राल करके सेट कर लेता है। इस स्थिति में सेट पोस्ट का कीवर्ड न आने की सम्भावना रहती है, इसलिए आप हर पोस्ट के लिए सही सही मेटा डिस्क्रिप्शन प्रयोग करने की आदत बना लीजिए।

5. एक विषय से सम्बंधित पोस्टों को लिंक करें

वर्डप्रेस एसईओ के लिए लिंक बिल्डिंग करना बेहद ज़रूरी है, इसके लिए आपको किसी दूसरी साइट द्वारा आपके साइट के साथ लिंक बिल्डिंग करने का इंतज़ार नहीं करना चाहिए। आप अपनी पोस्टों को ही आपस में जोड़कर सर्च इंजन में अपनी पोस्ट को इंडेक्स करवा सकते हैं।

लगातार ऐसा करते रहने से आपकी साइट के अंदर ही अंदर लिंक जूस फैलने लगेगा। वूरैंक की मानें तो साइट के अंदर से प्राप्त और फैलने वाला लिंक जूस आपकी पोस्टों के साथ साथ आपके होम पेज को भी रैंक करने में मदद करता है। आप जितना अधिक आपने पेजों को एक दूसरे के साथ लिंक करेंगे आपकी साइट उतनी ही ज़्यादा सर्च इंजन में ऊपर आती जायेगी।

इन बातों का ध्यान रखें तो आप जिस पोस्ट को पब्लिश करेंगे उसे अच्छी सर्च रैंक मिलेगी और वह ज़्यादा से ज़्यादा लोगों की नज़र में आयेगी। इन टिप्स को अपना अच्छे शुरुआत कर सकते हैं।