सफल व्यक्ति और उनके वीकेंड बिताने के तरीके

450

काम काज के बीच अपने लिए थोड़ा सा समय निकालना हो तो वीकेंड से अच्छा और क्या हो सकता है? थोड़ा देर से सोकर उठना, फ़ैमली या फिर दोस्तों के साथ चिट चैट करना, टीवी पर कोई अच्छी मूवी आ रही हो तो पॉपकार्न के साथ उसके मज़े लेना या और कुछ ये सब हमारे वीकेंड बिताने का सीमित दायरा है। लेकिन आज हम अपने बारे में नहीं बल्कि सफल व्यक्ति के बारे में बात कर रहे हैं जो अपना वीकेंड कुछ ख़ास अंदाज़ में बिताते हैं। सफल कौन है, इसके बारे में सबकी अलग अलग राय हो सकती है, लेकिन सफलता अपने निशान छोड़ जाती है, आपको वो निशान दिखें या दिखें मगर वो होते हैं।

आम आदमी के लिए वीकेंड दौड़भाग भरी ज़िंदगी में राहत के कुछ पल होते हैं, जहाँ न ऑफ़िस के काम का बोझ होता है और न ही बॉस की फ़ालतू चिकचिक। अक्सर देखा जाता है कि सफल लोग वीकेंड या फिर अपने खाली समय का सदुपयोग करते हैं और जिसमें वे स्वयं के बारे में और प्रतिस्पर्धा के बारे में विचार करते हैं। परफ़ेक्ट वीकेंड वह समय होता है, जब आप अपने काम और दूसरे कामों के बीच समांजस्य बनाने का प्रयास करते हैं।

सफल व्यक्ति और उनका वीकेंड

सफल व्यक्ति वही होता है, जो काम, व्यक्तिगत जीवन और परिवार के बीच संतुलन बना लेता है। जिस तरह ये लोग अपना वीकेंड स्पेंड करते हैं, उसकी चर्चा करना अनिवार्य हो जाता है ताकि सामान्य लोग उनसे कुछ अच्छी बातें सीखकर सफल बन सकें।

हम जिन बातों का ज़िक्र करने वाले हैं वो आप के काम आ सकती हैं, इसलिए अपनी डायरी और पेन अपने पास ही रखें।

सफल व्यक्ति और उनका वीकेंड बिताने का अंदाज़

1. सुबह जल्दी उठना

देर रात तक पार्टी और फिर सुबह देर से उठना यह हममें से बहुत लोग करते हैं, लेकिन सफल लोग सुबह जल्दी उठ जाते हैं, वो वीकेंड पर मिले समय का सदुपयोग करते हैं।

एक आम आदमी यही सोचता है कि थोड़ा सा समय मिला है तो आराम कर लिया जाए लेकिन सफल व्यक्ति कि सोच इससे एक क़दम आगे की होती है। उनके अनुसार वीकेंड पर भी सुबह जल्दी उठना अपने आप को कॉप्टीशन में आगे रखने का अच्छा कारण है, थोड़ी से मेहनत के बाद वो दिन में कुछ देर सो लेते हैं। जिससे उनको दुबारा काम करने के लिए एनर्जी मिल जाती है।

2. प्रयासरत रहने का स्वभाव

वीकेंड पर बिस्तर पर पड़े रहना, दिन भर टीवी के सामने बैठे रहना, थोड़े समय के बाद बोरियत ला देता है, जिससे हमारी ऊर्जा कम हो जाती है। इसलिए सफल व्यक्ति अपने वीकेंड पर खुद को कुछ नया करने के किए प्रेरित करते हैं, जिससे उनकी ऊर्जा कम न हो जाए। ओसन सर्फ़िंग, हाइकिंग, सेल्फ़ इंट्रोस्पेक्शन, बंगी जम्पिंग, स्काई डाइविंग, रोलर स्केटिंग जैसे फ़ुरतीले काम करते हैं, जिससे उनमें चुस्ती फुर्ती और नई ऊर्जा का संचार होता है। इन सब एक्टिविटी में पार्टीसिपेट करके वे अपनी लिमिट्स को आज़माते हैं। उनका मानना है कि वीकेंड पर खुद को घर में बंद कर लेने से आप ज़िंदगी के बहुत से आनंद खो देते हैं।

3. पसंद के काम करना

ज़िंदगी में पैसे कमाने की दौड़ में बचपन के पसंदीदा काम कहीं खो जाते हैं, इसलिए सफल व्यक्ति अपने अंदर छुपी प्रतिभा को वीकेंड पर पूरा कर लेते हैं। जिससे उनकी आत्मा को सुकून मिलता है और वे अगले दिन से काम पर जाने के समय कशमकश से निकल पाते हैं।

सफल व्यक्ति न केवल अपने बिजनेस और ऑफ़िस को बल्कि अपनी हॉबीज़ की भी कद्र करते हैं, जिससे उन्हें आत्म सुख प्राप्त होता है। पेंटींग, पतंग उड़ाना, सिलाई बुनाई आदि बहुत से ऐसे काम हैं, शायद जिनमें आपकी रुचि हो। ज़रा इस पर एक बार विचार ज़रूर कीजिएगा।

4. वीकेंड बिताने से पहले प्लानिंग करना

वीकेंड का असली मज़ा तभी आता है, जब आप उसको पहले से प्लान कर लें ताकि किसी प्वाइंट पर जाकर आप अटक न जाएं, जिससे मज़ा सज़ा बन जाए। सफल व्यक्ति एक वीकेंड खत्म होते ही दूसरे वीकेंड की प्लानिंग कर लेते हैं, जिससे वे सुबह से शाम तक एक्टिव और प्रोडक्टिव रहते हैं।

सफल व्यक्तियों की प्राथमिकताएँ उनको दूसरों से अलग करती हैं। भले ही बात वीकेंड बिताने की हो। पहले से सब तैयारियाँ कर लेने से आप पर्फ़ेक्ट वीकेंड बिता सकते हैं।

5. परिवार को क्वालिटी टाइम देना

कोई भी व्यक्ति अपने परिवार के लिए सफल होना चाहता है, इसलिए अगर सफलता की सीढ़ियाँ चढ़ते हुए परिवार काफी निचले पायदान पर रह जाए तो सफलता महत्वहीन हो जाती है। इसलिए परिवार और काम काज के बीच सही संतुलन बनाना ज़रूरी हो जाता है। अपने जीवनसाथी की ख़ुशियों का ध्यान रखना, बच्चों के साथ खेलना, पैरेंट्स की बात सुनना, उनसे अपनी बात शेअर करना, आदि ये सब आपको इमोशनल सपोर्ट देता है। जिससे आपको कभी ख़ालीपन और अकेलापन महसूस नहीं होता है।

6. टेक गैजेट्स से दूरी

बॉयोलॉजिक लाइफ़ पर डिजिटल लाइफ़ हावी होती दिख रही है, लोग आमने सामने न मिलकर एक दूसरे का फोन या मैसेज करके लेने लगे हैं। टेक गैजेट्स रोज़ के काम के लिए भले ही उपयोगी होते हैं, लेकिन आपको एक पर्सनल और प्राइवेट वीकेंड बिताते समय डिस्टर्ब भी करते हैं। स्वस्थ और खुशी देने वाला वीकेंड बिताने के लिए हमारी ऊर्जा नष्ट करने वाले टेक गैजेट्स को ख़ुद से दूर कर लेना चाहिए।

ज़रूरी है कि आप अपने और अपनी फ़ैमली के लिए टाइम निकालें अपनी हॉबीज़ के साथ साथ अपने आस पास के लोगों की हॉबीज़ का भी हिस्सा बनें, जिससे आपको सफल व्यक्ति बनने में मदद मिले।

सफल व्यक्ति के इस तरह से वीकेंड बिताने के बारे में आप क्या सोचते हैं? हमसे अवश्य शेअर कीजिए।