ब्लॉगिंग में बड़ा नाम कमाने का तरीक़ा

570

ब्लॉग्स उतने ही पुराने हैं जितना कि इंटरनेट। ब्लॉगिंग में आज बहुत ही अच्छे अवसर हैं। ब्लॉग एक नये व्यक्ति और बड़े बिजनेस दोनों के लिए सभी के साथ इंटरनेट पर अपना आइडिया शेअर करने का सशक्त माध्यम है। इसके कोई आश्चर्य नहीं है अगर आप भी इसकी ताक़त को आज़माकर लाभ उठाना चाहते हैं।

इसलिए आप ब्लॉगिंग का अगला बड़ा नाम बनना चाहते हैं, आप दूसरों को अपना कमाल दिखाना चाहते हैं, अनकही बातों पर प्रकाश डालना चाहते हैं, या फिर शायद दूसरों को अपनी ओर आकर्षित करना चाहते हैं। ब्लॉगिंग में सफलता पाने के लिए हर स्किल और टूल का प्रयोग आना चाहिए। लेकिन फिर भी प्रश्न ये उठता है कि आप ब्लॉग पर आख़िर लिखोगे क्या?

टॉपिक का चयन आपको ब्लॉगिंग में अगला बड़ा नाम बना सकता है या फिर आपके ब्लॉग की असफलता का बड़ा कारण बना सकता है। हम आपको वह सीक्रेट बताने जा रहे हैं जो आपको ब्लॉग वर्ल्ड में बड़ा नाम कमाने में हेल्पफ़ुल होंगे।

ब्लॉगिंग में बड़ा नाम

ब्लॉगिंग में  बड़ा नाम कैसे कमायें?

1. सफलता सही टॉपिक के चयन पर निर्भर करती है

अगर आप कोई न्यूज़ साइट नहीं बना रहे हैं, जिसमें कई लेखक हों, तो आपको अपने ब्लॉग के एक टॉपिक या नीश Niche का चयन कर लेना चाहिए। भले ही आपको विभिन्न टॉपिक पर लिखने का आइडिया शुरुआत में पसंद आए लेकिन रीडर्स अक्सर इस बात को समझने में नाक़ामयाब रहते हैं कि आखिर आप उनसे क्या शेअर करना चाहते हैं। इससे तो अच्छा है कि ब्लॉग बनाने से पहले ही एक नीश चुन लें जिसमें आपकी पकड़ अच्छी हो और आप अच्छे से अच्छे आर्टिकल्स लिख सकें, आप चाहें तो बाद में इसे और आगे बढ़ा सकते हैं।

2. किसी दूसरे को देखकर तो बिल्कुल भी ब्लॉग न शुरू करें

अपने ब्लॉग का नीश चुनते समय अक्सर नये ब्लॉगर यही सबसे बड़ी ग़लती करते हैं। बहुत से कारण हो सकते हैं कि वह नीश दूसरे ब्लॉगर के लिए तो अच्छा हो लेकिन आपको वह सफल ब्लॉगर न बना पाए। विषय का ज्ञान, पैशन और ब्लॉग आथर पर पाठकों का विश्वास किसी ब्लॉग को सफलता का नया मक़ाम दिलाने में महत्त्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। इसकी बजाय आप अपने आपको पहचानिए कि आप किस टॉपिक पर दुनिया को अपनी ओर मोड़ सकते हैं और मनचाहा रिज़ल्ट पा सकते हैं।

3. अपनी टॉरगेट आडियंस पहचानिए

उस विषय को चुनना जिस पर आप अच्छे से लिख सकते हैं, बहुत अच्छी बात है। लेकिन इस बात पर भी ध्यान देना बहुत आवश्यक है कि आख़िर उसे पढ़ने वाले कितने लोग हैं? ब्लॉग के लिए रीडर्स ही न मिले तो ब्लॉग कैसे सफल हो सकता है? इसलिए यह देखना भी ज़रूरी है कि इंटरनेट पर आडियंस क्या क्या पढ़ना चाहती है और आप उसने किस तरह जुड़ सकते हैं। उदाहरण के लिए – गृहिणियाँ रेसिपी ब्लॉग में रुचि रख सकती हैं, लेकिन टेक सैवी पर्सन नहीं।

4. प्रासंगिक कंटेंट

इससे अधिक ब्लॉगिंग में और कुछ नहीं है। जब आप जान जाते हैं कि आपको क्या लिखना है और आप पने रीडर्स से जुड़ेंगे तो आपको अपने कंटेंट को उनके लिए रेलेवेंट Relevant बनाना होता है। एक ब्लॉग आथर के रूप में इस बात का ध्यान रखना होता है कि आपके ब्लॉग पर आने वाला कोई भी रीडर अपना समय इंवेस्ट करता है। इसलिए उसके इंवेस्टमेंट पर आपको रिटर्न देना चाहिए और अच्छे से अच्छा प्रासंगिक कंटेंट लिखना चाहिए। आपको दूसरे ब्लॉग से कंटेंट चुरा चुराकर डालने से बचना चाहिए। इसलिए ऐसे नीश पर लिखिए जिसके बारे में आप सचमुच जानकारी रखते हैं और रिसर्च करके अच्छे से अच्छा और यूनीक लिख सकते हैं जिससे पाठकों में आपके प्रति सम्मान बढ़े।

जब आप इन 4 बातों का पालन करना सीख जाते हैं, तो सफलता स्वयं आपके पास आ जाती है।

क्या आप हमारी बात से सहमत हैं? सोचिए क्या हमने यहाँ किसी प्वाइंट को छोड़ दिया है या फिर जो आपने अपने ब्लॉगिंग अनुभव से सीखा है, हमारे साथ शेअर कीजिए।