ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने के तरीके – 2016

473

आज मैं आपको ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने के बारे में बताने जा रहा हूँ। जो कि किसी फ़ोरम या फ़ेसबुक जैसे सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स पर सबसे ज़्यादा पूछे जाने वाला प्रश्न है। इंटरनेट पर सर्च करने पर आपको ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने की टिप्स मिल जाएंगी लेकिन लोग या फिर इनका प्रयोग नहीं करते हैं, या फिर किसी जादू के होने का इंतज़ार है, जो रातो-रात उनकी साइट का ट्रैफ़िक बढ़ा दे।

आपको इस सच को स्वीकार करना पड़ेगा कि रातो-रात ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने का कोई तरीका नहीं है। ट्रैफ़िक बढ़ाने के लिए कड़ी मेहनत और रिसर्च करनी पड़ती है। एक्सपर्ट सलाह को मानकर अच्छे रिज़ल्ट पाए जा सकते हैं।

ब्लॉग ट्रैफ़िक टिप्स

ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने के 3 तरीके हैं

1. रेफ़्रल ट्रैफ़िक – ईमेल मार्केटिंग, सोशल मीडिया आदि से आने वाला ट्रैफ़िक
2. सर्च ट्रैफ़िक – गूगल, बिंग आदि जैसे सर्च इंजनों से मिलने वाला ट्रैफ़िक
3. डायरेक्ट ट्रैफ़िक – जब कोई व्यक्ति वेब ब्राउज़र में सीधे आपका ब्लॉग एड्रेस टाइप करके आपके ब्लॉग पर पहुंचता है

ऊपर बताए गए तरीकों में तीसरा वाला बहुत टाइम टेकिंग है, इसके लिए ज़रूरी है कि आपके ब्लॉग को दुनिया भर में लोग अधिक से जाने यानि आप अपने ब्लॉग की ब्रैडिंग अच्छी से अच्छी तरह से करें। लेकिन ध्यान रहे कि इस काम में समय लगता है और आपको धैर्य रखना पड़ेगा।

लेकिन पहला और दूसरा तरीका बहुत ही जल्दी रिज़ल्ट देता है, इसलिए ज़्यादातर लोग इसी पर ध्यान देते हैं।

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन एसईओ

सर्च इंजन ऑप्टिमाइज़ेशन _ Search Engine Optimization से आप ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाया जाता है। दुनिया भर में गूगल सबसे चर्चित सर्च इंजन है। अधिकांश लोग इसी के लिए ऑप्टिमाइज़ेशन करते हैं। दूसरे सर्च इंजनों के लिए एसईओ करना थोड़ा अलग होता है, क्योंकि उनकी सर्च एल्गोरिद्म अलग होती हैं।

गूगल सर्च का उद्देश्य की सर्च किए गए कीवर्ड के सम्बंधित सटीक से सटीक सर्च रिज़ल्ट दिखाए जाएं। इसलिए गूगल सर्च ने कई तरह की एग्लोरिद्म विकसित की हैं जो विभिन्न ब्लॉग और साइटों के कंटेंट को क्राल करके उन्हें सर्च इंजन में रैंक करती हैं। किसी कीवर्ड के लिए आप जिन सर्च रिज़ल्ट को पहले पेज पर देखते हैं वे गूगल के अनुसार अच्छे होते हैं। अधिकतर लोग किसी कीवर्ड टारगेटिंग करके अपने ब्लॉग और ब्लॉग पोस्ट पहले पेज पर लाने का प्रयास करते हैं। ऐसे लगभग 200 फ़ैक्टर हैं जो आपकी साइट की रैंक पर असर डालते हैं। हम इनमें से कुछ ज़रूरी फ़ैक्टर्स पर चर्चा करेंगे।

1. बैकलिंक

बैकलिंक _ Backlinks आपकी साइट को लाभ भी पहुंचाता है और बड़ा नुकसान भी कर सकता है। बैकलिंक एक प्रमुख फ़ैक्टर है, जिसकी हेल्प से गूगल किसी वेब पेज की रैंक तय करता है। अच्छे वेब पेजों से मिलने वाले बैकलिंक फ़ायदेमंद होते हैं।

ऐसा माना जाता है कि अगर आप अच्छा कंटेंट पब्लिश करते हैं तो लोग इस बारे में आपकी चर्चा करते हैं और आपके ब्लॉग या ब्लॉग पोस्ट को अपनी साइट पर लिंक करते हैं। जिससे उनकी साइट से आपकी साइट पर ट्रैफ़िक आने लगता है। जो साइट आपको लिंक कर रही है अगर उसकी रैंक अच्छी हो तो आपकी साइट की रैंक भी बढ़ती है।

नए ब्लॉगरों को अच्छी साइटों से बैकलिंक पाने में कड़ी मेहनत करनी होती है, इसके लिए वे गेस्ट पोस्ट भी पब्लिश कर सकते हैं।

ऑर्गैनिक लिंक बिल्डिंग के लिए आप इंफ़ोग्राफ़िक, वीडियो, कंटेंट मार्केटिंग, गेस्ट ब्लॉगिंग का सहारा ले सकते हैं।

ब्लैक हैट लिंक बिल्डिंग में लोग फ़ाइवर, एसईओ क्लर्क, पेड पोस्टिंग, पेड गेस्ट पोस्टिंग, आर्टिकल सबमिशन, डायरेक्ट्री सबमिशन, साइट वाइड लिंक्स, ब्लॉग कमेंट का सहारा लेते हैं।

मेरी सलाह मानें को अपने ब्लॉग पोस्ट पर अधिक मेहनत करें और क्वालिटी कंटेंट पब्लिश करें जिससे ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ेगा और ब्लॉग लम्बी रेस का घोड़ा साबित होगा।

एसईओ हिंदी टिप्स

2. सटीक पोस्ट टाइटल, परमालिंक और मेटा डिस्क्रिप्शन

बहुत से ब्लॉगर इन तीन चीज़ों पर बिल्कुल भी ध्यान नहीं देते हैं, जिस वजह उनको मनचाहा रिज़ल्ट नहीं मिलता है। लेकिन अगर आप अपने ब्लॉग को अच्छी रैंक दिलाना चाहते हैं तो आपको इन तीनों को पूरी तरह से मेहनत करनी होगी। वर्डप्रेस यूज़र्स इसके लिए Yoast SEO plugin या All-in-One SEO plugin प्रयोग कर सकते हैं।

जिसकी हेल्प से आप आउटडेट पोस्ट और ब्लॉग आर्काइव को No-Index टैग कर सकते हैं।

3. कीवर्ड का सही इस्तेमाल

कीवर्ड वह शब्द होता है जिसे एक सामान्य यूज़र्स सर्च इंजन में टाइप करके सर्च करता है। जिस शब्द को अधिक से अधिक लोग सर्च करते हैं वो पापुलर कीवर्ड बन जाता है। इसके लिए आप एडवर्ड कीवर्ड रिसर्च टूल _ AdWord Keywords Research Tool प्रयोग कर सकते हैं या फिर अपने अनुमान से काम कर सकते हैं।

4. HTTPs का प्रयोग

जल्द ही गूगल ने एक बात स्पष्ट कर दी है कि SSL सर्टिफ़िकेट _ SSL Certificate वाले ब्लॉग और साइट को अच्छी रैंक देने के लिए एक फ़ैक्टर के रूप में प्रयोग किया जा रहा है। इसलिए आप अपने ब्लॉग के लिए SSL सर्टिफ़िकेट ख़रीद सकते हैं। लेकिन ब्लॉगस्पॉट यूज़र्स कस्टम डोमेन के साथ SSL सर्टिफ़िकेट का प्रयोग नहीं कर सकते हैं।

5. एक्सेलेरेटेड मोबाइल पेज – एएमपी

Accelerated Mobile Page AMP – इस तकनीक की सहायता से आपके ब्लॉग बहुत फ़ॉस्ट लोड होता है। हाल ही में जो लोग इस टेक्नोलॉजी का प्रयोग कर रहे हैं उनको बहुत ज़्यादा फ़ायदा हुआ है। गूगल ने ऐसे पेजों को मोबाइल सर्च इंजन में बढ़िया रैंक दी है।

6. मोबाइल फ़्रेंडली साइट

अगर आप एक्सेलेरेटेड मोबाइल पेज टेक्नोलॉजी का प्रयोग नहीं कर रहे हैं तो आप एक रिस्पॉन्सिव और मोबाइल फ़्रेंडली साइट डिज़ाइन करवा सकते हैं। ब्लॉगस्पॉट और वर्डप्रेस दोनों के लिए काफ़ी अच्छे रिस्पांसिव ब्लॉग टेम्पेलेट और थीम मौजूद हैं।

सोशल मीडिया से ट्रैफ़िक बढ़ाना

आज सोशल मीडिया पर होना बहुत ज़रूरी है, पूरी दुनिया फ़ेसबुक जैसे सोशल मीडिया का प्रयोग कर रही है। जिससे आप ब्लॉग ट्रैफ़िक भी पा सकते हैं।

सोशल मीडिया में आपको फ़ेसबुक, ट्विटर और यूटूब को पहले टारगेट करना चाहिए।

फ़ेसबुक से ट्रैफ़िक बढ़ाना

फ़ेसबुक से ट्रैफ़िक बढ़ाना बहुत आसान है। हम सभी जानते हैं कि फ़ेसबुक को 1.2 बिलियन से ज़्यादा यूज़र्स प्रयोग कर रहे हैं। इसलिए यह ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने का एक अच्छा टूल साबित हो सकता है।

फ़ेसबुक पर आप ब्लॉग और सम्बंधित प्रोडक्ट को प्रोमोट करने के लिए फ़ेसबुक पेज और फ़ेसबुक ग्रुप बना सकते हैं।

फ़ेसबुक पेज ब्लॉग के लिए अच्छा टूल होता है, जैसे जैसे आपके पेज के फ़ॉलोअर्स बढ़ते हैं वैसे वैसे आपकी शेअर की जाने वाली पोस्ट की पहुंच (Reach) बढ़ती है। जिससे आपके ब्लॉग का ट्रैफ़िक बढ़ने लगता है।

इसके अलावा आप दूसरे सोशल मीडिया प्लेटफ़ॉर्म्स जैसे ट्विटर, रेडिट, क़ोरा की हेल्प से भी अच्छा ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ा सकते हैं।

जो फ़ैक्टर एक ब्लॉगर के लिए काम करते हैं ज़रूरी नहीं है कि वो दूसरे ब्लॉगर को भी लाभ पहुंचायें क्योंकि यह आपके कंटेंट और पाठकों की रुचि पर भी निर्भर करता है।

ईमेल मार्केटिंग का प्रयोग

ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने के लिए ईमेल मार्केटिंग का सहारा भी लिया जा सकता है। इस काम के लिए गूगल फ़ीडबर्नर एक फ़्री टूल है लेकिन आप ऑबर, मेलचिम्प, गेटरिस्पॉन्स जैसे पेड ईमेल मार्केटिंग सर्विसेज को भी प्रयोग कर सकते हैं। जिसकी हेल्प से आप अपने सब्सक्राइबर को नई अपडेट उनके ईमेल पर भेज सकते हैं। यह भी ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने का पुराना और आज भी सबसे बढ़िया तरीका है, लेकिन इसके लिए भी आपको धीरज बांधना होगा। अचानक से लाखों सब्सक्राइबर्स का मिलना सपने जैसा है।

आप अपना ब्लॉग ट्रैफ़िक बढ़ाने के लिए किस तरीके का प्रयोग कर रहे हैं, हमसे ज़रूर शेअर करें।