ब्लॉग से रुपये न कमा पाने के 5 कारण

274

Blog Monetization Conceptual Mistakesशायद ही आपने पहले कभी ब्लॉग से कमाई करने की धारणाओं के बारे में कोई पोस्ट पढ़ी हो। बहुत कम लोग धारणाओं के बारे में बात करते हैं। बिना सही धारणा के कोई भी काम नहीं बन सकता है। इसलिए कमाऊ ब्लॉगर बनने के लिए रुपये कमाने की स्पष्ट धारणाओं की आवश्यकता होती है। आइए जानते हैं कि ब्लॉग से रुपये कमाने की 5 ग़लत धारणाएँ क्या हैं?

ब्लॉग से रुपये कमाने की 5 ग़लत धारणाएँ

Top Mistakes to Earn Money from your blog

रुपया ही सब कुछ है

Money is everything
क्या आपने अपने पड़ोस में नयी दुकान पर गये हैं? पहली बार दुकान पर जाने पर दुकानदार क्या करता है? क्या वो आपको जितना सामान बेचना चाहता है उतना सब कुछ बेचने की कोशिश करता है? ऐसा कभी नहीं होता है वह आपको बताता है कि वह अपनी दुकान पर क्या-क्या बेचता है? सबसे पहले लोकप्रिय प्रोडेक्ट्‌स के बारे में सबसे अच्छी बातें बताता है। यही नियम सभी बिजनेस में एक समान रूप से काम करता है।

ब्लॉगिंग में रुपये कमाने के लिए सबसे पहले आपको पाठकों को प्रभावित करना होगा। इसका सिर्फ़ इतना ही मतलब नहीं है कि आप पाठकों ये बतायें कि आप ब्लॉग पर क्या बेच रहे हैं? इसके लिए आपको अपने क्षेत्र में विशिष्टता साबित करनी होगी। किस प्रकार की समस्याएँ आप सुलझा सकते हैं? इसके लिए आपको अपने ब्लॉग पर उचित सामग्री अथवा पोस्टें प्रकाशित करनी होंगी। इसके बाद आप जो चाहें वो बेच सकते हैं। इसलिए सिर्फ़ रुपया कमाना ही ब्लॉगिंग का उद्देश्य नहीं होना चाहिए।

सब कुछ मुफ़्त बाँटना

Giving all for free
मुफ़्त चीज़ें लेना और मुफ़्त चीज़ें बाँटना कोई बुद्धिमत्ता नहीं है। मुफ़्त दी जाने वाली चीज़ों की उपयोगिता कम मानी जाती है। यदि आप किसी चीज़ को मुफ़्त बाँटते हैं तो यह उसकी क़ीमत को कम कर देता है। आप केवल चीज़ों को मुफ़्त देकर अपने ब्लॉग की ओर पाठक आकर्षित करते हैं। लेकिन कभी भी सभी चीज़ों को मुफ़्त नहीं बाँटना चाहिए। और न ही सब कुछ बेचना चाहिए। मध्य मार्ग सबसे बेहतर रास्ता है। कुछ चीज़ें मुफ़्त बाँटकर पाठकों को आकर्षित कीजिए और अधिकतर काम की चीज़ें बेचकर रुपये कमाइए। साधारण सलह, परामर्श और टिप्स मुफ़्त हो सकती हैं। यह हर व्यापार का एक सरल-सा नियम है।

पाठक-समूह स्वयं बन जायेगा

Blog community will grow automatically
एक अन्य ग़लत धारणा यह है कि पोस्ट लिखते रहो और सोचो की पाठक स्वयं खिंचे चले आयेंगे। आपको स्वयं भी पाठक जुटाने होंगे ताकि आपका एक पाठक-समूह बन सके। इसके लिए आपको अपनी पोस्ट उस हर जगह शेअर करनी होगी जहाँ से आपको नये और काम के पाठक मिलने की पूरी सम्भावना हो।

जिस प्रकार एक जादूगर पहले छोटा-मोटा जादू दिखाकर भीड़ जमा करता है और फिर अन्य को अपनी ओर आसानी से आकर्षित कर लेता है। इसी प्रकार आप भी अच्छी पोस्टें बनाइए और उन्हें उस जगह शेअर करिए जहाँ उसकी अच्छी माँग हो और वह पसंद की जाये। इससे आपका एक पाठक-समूह स्वयं बन जायेगा जो नियमित रूप से आपकी पोस्टें पढ़ेगा।

आपको कोई प्रोमोट करेगा

Readers have interest in your blog promotion
आपकी पोस्ट को कोई देखेगा भी नहीं जब तक कि आप उनकी पोस्ट को प्रोमोट नहीं करते। आपको अपनी पोस्टें पहले से स्थापित अच्छे ब्लॉगरों के मध्य शेअर करनी होंगी। आपको अपनी पोस्टें उनकी पसंद के अनुसार लिखनी होंगी। वरना आप के ब्लॉग तक कोई नहीं आयेगा। आपको उन्हें अपने ब्लॉग पर आने का निमंत्रण देना होगा, जिससे उनके द्वारा आपकी पोस्ट प्रोमोट की जा सके।

अधिक पोस्टें अधिक पाठक

Publishing lots of post to get more readers
ब्लॉगिंग समय माँगती है। ब्लॉगिंग में सफलता प्राप्त करने के लिए आपको ब्लॉग पर अधिक समय बिताना होगा। इस नियम को बहुत से ब्लॉगर ग़लत रूप में समझते हैं। उनकी समझ कहती है कि अधिक पोस्टें अधिक पाठक जमा कर सकती हैं। वे समझते हैं कि यदि ब्लॉग पर 1000 पोस्टें हो तो एक पोस्ट पर एक पाठक तो रोज़ आयेगा ही। यह एक ग़लत उम्मीद है। यदि आप अच्छी पोस्ट नहीं लिखेंगे तो आपको ब्लॉग पर दिन में एक भी पाठक नहीं आयेगा। आपकी बेकार पोस्टें आपके ब्लॉग आर्काइव में ही सजी रहेगीं, वह पाठकों के साथ-साथ आपके भी किसी काम नहीं आ सकेंगी। इसलिए कम मगर अच्छी पोस्टें बनाइए ताकि वह आपके काम सकें और आप कमाई कर सकें।

Keywords: conceptual blogging, conceptual blogging mistakes, blogging mistakes, monetization mistakes