बिजनेस ब्लॉग पर ऐडसेंस क्यों नहीं लगाएँ

267

गूगल ऐडसेंस पूरे इंटरनेट पर प्रयोग किया जाने वाला एक बड़ा ऐड नेटवर्क है। जिसका प्रयोग लाखों लोग करते हैं। छोटा वेबसाइट हो या फिर बड़ी वेबसाइट या फिर बिजनेस ब्लॉग सभी ऐडसेंस का पूरा फ़ायदा उठा रही हैं। ऐडसेंस उनकी कमाई का बड़ा स्रोत है। आपके भारतीय रेलवे की साइट भी शायद ऐडसेंस लगा हुआ देखा होगा। क्या आप भी उनमें से एक हैं?

लोग अपनी व्यक्तिगत पसंद के आधार पर ऑनलाइन कमाई में इजाफ़ा करने के लिए ऐडसेंस का प्रयोग करते हैं। जिस किसी के पास अच्छी और मज़ेदार वेबसाइट है, वह ऐडसेंस प्रोग्राम के लिए आवेदन कर सकता है। एक क्लिक में कुछ सेंट्स से लेकर कुछ डॉलर्स तक कमा सकते हैं। इसके लिए आपको वेबसाइट का कंटेंट और आपकी टारगेट आडियंस सही से बनानी पड़ेगी। अगर आप एक आसान और फ़ायदेमंद पे-पर-क्लिक एड प्रोग्राम की तलाश में हैं, तो ऐडसेंस का नाम इस लिस्ट में सबसे ऊपर है।

बिजनेस ब्लॉग पर ऐडसेंस नहीं
Business Blogging- Avoid AdSense or other contextual ads

लेकिन धैर्य रखिए! आपने कभी सोचा नहीं होगा कि मैं आपको वेबसाइट पर ऐडसेंस लगाने के लिए मना करूँगा। जी हाँ, आपने ठीक पढ़ा है, दुबारा पढ़ने की ज़रूरत नहीं है। कभी कभी अपनी बिजनेस ब्लॉग पर किसी भी तरह का विज्ञापन करना सही निर्णय नहीं होता है। फिर चाहे वह ऐडसेंस हो या कोई दूसरा ऐड विकल्प!

बिजनेस ब्लॉग पर ऐडसेंस क्यों नहीं

अगर आप नए हैं, और ब्लॉग या ऑनलाइन मार्केटप्लेस बनाने जा रहे हैं, तो ऐडसेंस ऐड लगाकर आप अपने खर्चे पूर कर सकते हैं। ऐडसेंस का प्रयोग करने में क़तई कोई बुराई नहीं है। लेकिन ऐडसेंस प्रयोग करने या न करने के लिए कई बातें ज़िम्मेदार हो सकती हैं। आइए बात करते हैं कि बिजनेस ब्लॉग पर ऐडसेंस क्यों नहीं लगाना चाहिए?

मैं आपको ऐडसेंस की आधारभूत बातों के बारे में बताता हूँ, कि क्यों यह सबसे बढ़िया ऐडवर्टाइज़िंग प्लेटफ़ार्म है।

ऐडसेंस एक कंटेक्स्चुअल ऐड नेटवर्क है, जिसका सीधा मतलब है कि वह आपकी वेबसाइट कन्टेंट के हिसाब से ऐड सर्व करता है। मान लीजिए कि आप वेबहोस्टिंग से सम्बंधित ब्लॉग लिखते हैं, जिससे ज़रिए आप वेबहोस्टिंग को प्रमोट करना चाहते हैं। इस काम के लिए आप अपने बिज़नेस प्रोमोशन की जगह कमाई और खर्चे पूरे करने के लिए ऐडसेंस का इस्तेमाल करते हैं। लेकिन ध्यान रहे कि आपके ब्लॉग पर आपके प्रतिस्पर्धी कम्पनियों के विज्ञापन दिखाई देंगे क्योंकि गूगल कंटेक्स्चुअल ऐडवर्टाइज़िंग करता है। जिससे आप अपने ही कॉम्पटीटर के बिज़नेस प्रमोटर बन जाएंगे। गूगल ऐडसेंस आपकी वेबहोस्टिंग कम्पनी के विज्ञापन दिखाने के साथ औरों के विज्ञापन भी दिखा देगा। जिसका मतलब हुआ कि आप कुछ पैसों के लिए अपना बिज़नेस खुद दांव पर लगा देंगे।

ऐसा सिर्फ़ ऐडसेंस के साथ ही बल्कि दूसरे ऐडनेटवर्क के साथ भी होता है। जो भी कंटेक्स्चुअल विज्ञापन रन करते हैं।

इसके साथ ही साथ और भी कारण हैं कि आपको अपनी बिजनेस ब्लॉग पर कंटेक्स्चुअल विज्ञापन रन नहीं करने चाहिए।

अपने ब्रांड की वैल्यू कम न करें

ब्लॉग या किसी दूसरे तरह की वेबसाइट से ऑनलाइन पैसे कमाने का जज़्बा आपको अपने घर पर आराम से रहने का अवसर देता है। आपको कॉम्पटीशन में बने रहने के लिए अपने ब्रांड को बनाकर रखना होगा। सभी अच्छे वेबमास्टर ऑनलाइन ब्रैंडिंग पर बहुत ध्यान रखते हैं।

जैसे ही आप तरह तरह के विज्ञापनों से अपनी साइट को भर देते हैं, आपके बिज़नेस की ब्रैंड वैल्यू कहीं खो जाती है। आप सस्तेदाम पर ख़ुद का ब्रैंड ऑनलाइन किल कर देते हैं।

शायद आपने ऐसी कोई कम्पनी या दूसरी बिजनेस ब्लॉग / वेबसाइट ज़रूर देखी होगी, जिस पर वो ऐडसेंस का प्रयोग करते हों। अपने ब्रैंड को बढ़ावा नहीं जगह वो ऐडसेंस से कमाना पसंद करते हैं। जो कि बहुत अनावश्यक और अनप्रोफ़ेशनल तरीक़ा है।

प्रतिस्पर्धी बिज़नेस को आगे बढ़ने का मौक़ा

फिर कहना पड़ रहा है, क्योंकि ऐडसेंस कंटेक्स्चुअल विज्ञापन रन करता है, तो आपके पेज के कंटेंट के अनुसार विज्ञापन दिखता है। इससे आपके प्रतिस्पर्धियों के विज्ञापन अपनी वेबसाइट दिखेंगे। जो कि आपके प्रोडक्ट की तरह ही हो सकते हैं। इससे आपके प्ररिस्पर्धी ऐडवर्ड प्रोग्राम का प्रयोग करके आपके ब्लॉग पर अपने प्रोडक्ट को प्रोमोट करने का लाभ ले सकते हैं।

जिसका मतलब है, कि एक प्रतिस्पर्धी ऐडवर्ड सिस्टम से स्पांसर्ड ऐड ख़रीदकर आपकी साइट ही फ़ायदा लेगा। वो अपनी कैम्पेन को कुछ कीवर्ड्स के लिए ऑप्टिमाइज़ करके बहुत कम क़ीमत पर ऐडसेंस द्वारा आपकी वेबसाइट से अपने लिए कस्टमर ख़रीद पाएगा। इसके बदले में ऐडसेंस आपको कुछ सेंट्स या डॉलर ही देगा। हुआ न घाटे का सौदा।

इसलिए याद रखें कि ऐडसेंस प्रयोग करते समय आपका ऐडवर्टाइज़र्स पर कोई कंट्रोल नहीं होता है, और इस तरह आप अपने बिज़नेस के दुश्मन ख़ुद बन बैठते हैं।

हर क्लिक पर आप अपना रीडर खो देते हैं

ऐडसेंस विज्ञापन पर क्लिक करने बाद विज्ञापन खुल उसी पेज पर खुल जाता है, यानि पाठक आपकी साइट से विज्ञापन की हुई साइट पर चला जाता है। पाठक के पास अवसर है कि वो बैक बटन प्रयोग करे और आपकी साइट पर वापस आ जाए, लेकिन इसके चांसेज कम ही होते हैं। (लेकिन अब गूगल इस बात को समझ चुका और विज्ञापन नई टैब पर खुलते हैं)

इस तरह ऐडसेंस पर होने वाला क्लिक आपक पाठकों आपके ब्लॉग से दूर ले जाता है। इसके साथ ही अगर ऐडसेंस आपके ब्लॉग पर ठीक से ब्लेंड न हो तो पाठक उनसे कंफ़्यूज हो जाते हैं।

हर क्लिक से आपकी वेबसाइट का बाउंस रेट बढ़ता जाता है, क्योंकि विज्ञापन पर क्लिक करने के बाद वह आपकी वेबसाइट छोड़कर विज्ञापन पेज पर चला जाता है। (लेकिन आप गूगल ऐडसेंस में बहुत से विज्ञापन हैं जो सिर्फ़ नई ब्राउज़र टैब में ही खुलते हैं। सभी विज्ञापनों के साथ ऐसा है, यह रिसर्च अभी हमने नहीं की है।)

संक्षेप में कहें तो इसमें कोई दो राय नहीं है कि ऐडसेंस ऐड कमाई करने का बढ़िया अवसर है। लेकिन बहुत सी बातें ऐसी हैं जिन पर विचार करने के बाद ही आपको ऐडसेंस ऐड को कमाई का पहला ज़रिया बनाना चाहिए। सबसे पहले अपना ख़ुद का ब्रैंड बनाइए और फिर ऐडसेंस, एफ़िलिएट या डायरेक्ट एडवर्टाइज़िंग से कमाने की सोचिए। इस तरह आपको पता चल पाएगा कि आपकी वेबसाइट पर आपको किस तरह के विज्ञापन लगाने से फ़ायदा मिलेगा।

बिज़नेस प्रोमोशन का लाभ

जब आप अपना ब्लॉग या वेबसाइट बनाए तो बिज़नेस ऑनलाइन या ऑफ़लाइन प्रोमोट करें। इसके लिए अपने विज्ञापनों का प्रयोग कीजिए। उदाहरण के लिए, जब आप अपने प्रोडक्ट और सर्विस के लिए विज्ञापन करते हैं, तो आपके सेल्स और लैंडिंग पेज पर अधिक ट्रैफ़िक मिलता है।

एक क्लिक पर कुछ सेंट्स के लिए आप अपने ब्रैंड को दांव पर न लगाएं, बल्कि अच्छी ब्रैंडिंग और रैपूटेशन के लिए सार्थक प्रयास करें।

अगर आप बिजनेस ओनर हैं, तो हम जानना चाहेंगे कि आप अपनी साइट्स पर किस तरह के विज्ञापन लगाते हैं? क्या आप ऐडसेंस या उसकी तरह कोई दूसरा कंटेक्स्चुअल ऐड प्रोग्राम या डायरेक्ट ऐडवर्टाज़िंग का प्रयोग कर रहे हैं। अगर आप हमारे लेख को पढ़ने के बाद अपनी साइट से विज्ञापन हटा रहे हैं तो इस बारे में हमसे बात भी कर सकते हैं। नीचे कमेंट बॉक्स आपके लिए खुला है।

आप अपने दोस्तों के साथ इस जानकारी को शेअर करना मत भूलें, क्योंकि बिज़नेस में अच्छे रिलेशन से काम बनते हैं।