ऐडसेंस एकाउंट की सुरक्षा आपके हाथ

284

ऐडसेंस / AdSense के बारे में जितना कहा जाये कम है आज हिंदी ब्लॉगर्स भी इससे लाभांवित हो रहे हैं। हिंदी ब्लॉगिंग में जाने-माने साल में लाखों रुपये की आमदनी कर पा रहे हैं और ये सब ऐडसेंस के कारण ही सम्भव हुआ है। इसलिए ऐससेंस एकाउंट को बंद होने से बचाना ज़रूरी है।

हिंदी ब्लॉगर्स के मध्य गूगल द्वारा किये गये सर्वे के कारण ही गूगल टीम इस निष्कर्ष पर पहुँची की यदि इंटरनेट पर हिंदी भाषा का विकास और प्रचार-प्रसार करना है तो हिंदी ब्लॉगरों को ऐडसेंस विज्ञापनों से वंचित नहीं किया जा सकता है।

हिंदी ब्लॉगर्स ऐडसेंस के लिए आवेदन करके आसानी से विज्ञापन अपने ब्लॉग पर दिखा रहे हैं लेकिन कुछ खास बातों के बारे में पता न होने के कारण कई ब्लॉगर्स के ऐडसेंस एकाउंट बंद हो चुके हैं।

उन्हीं ब्लॉगरों के प्राप्त प्रश्नों के कारण मैंने इस पोस्ट को लिखने के बारे में विचार किया ताकि अन्य ब्लॉगर्स को ऐडसेंस खाता निरस्त होने की समस्या से न जूझना पड़े।

ऐडसेंस की सेवा दोनों के लिए है जो विज्ञापन देते हैं और पैसे खर्च करते हैं और वो भी जो अपनी साइट पर विज्ञापन लगाते हैं और पैसे कमाते हैं। इसलिए ऐडसेंस की सेवा शर्तों और पॉलिसी को समझने की बहुत आवश्यकता है।

ऐडसेंस एकाउंट बंद होने के बचान के टिप्स

1. ख़ुद क्लिक न करें और अमान्य क्लिक पर नज़र भी रखें

Keep eyes on Invalid click activity

यदि ऐडसेंस को कम ट्रैफ़िक वाली साइट पर लगाया जाता है तो उस पर प्राप्त होने वाले क्लिक की संख्या भी कम होती है। जिसके कारण कमाई न के बराबर होती है यदि कई दिनों तक ऐसा चले तो ब्लॉगर्स ट्रैफ़िक बढ़ाने की बजाय अपने ऐडसेंस पर खुद ही क्लिक करने लगते हैं उन्हें लगता है कि ऐडसेंस टीम को पता ही नहीं चलेगा। कुछ लोग तो अपने मित्रों से बराबर अनुरोध करते हैं कि वे उनकी साइट पर लगे विज्ञापनों पर क्लिक करें ताकि उनकी ऐडसेंस से कमाई हो सके।

लेकिन आप कितनी भी चालाकी दिखायें ऐडसेंस आपके खाते पर होने वाली एक्टिविटी पर पूरी नज़र रखता है और अमान्य क्लिक की संख्या यदि लिमिट से बाहर हो जाये तो वह आपको चेतावनी देता है यदि आप उस चेतावनी से भी नहीं सीखते हैं तो आपकी नासमझी ऐडसेंस एकाउंट बंद होने का कारण बन जाती है।

2. एक पेज पर कितनी ऐड यूनिट लगायें?

How many ad units on single page?

बहुत से ब्लॉगर एक पेज पर कई ऐड यूनिट लगा लेते हैं वो सोचते हैं कि उनकी साइट पर आने वाला पाठक किसी न किसी ऐड यूनिट को करेगा ही जिससे उन्हें आमदनी हो जायेगी। इसके लिए आपको बताना चाहूँगा कि आप ब्लॉग के एक पेज पर अधिकतम तीन ऐड यूनिट ही लगा सकते हैं। अगर आप ज़्यादा ऐड यूनिट लगाकर कमाने की सोच रहे हैं तो आप गलत है। आपकी यह ग़लती आपके ऐडसेंस अकाउंट बंद होने का कारण बन सकती है।

3. ऐड यूनिट का सही शीर्षक प्रयोग करें

Never use deceiving titles around ad units

कई ब्लॉगर इधर-उधर ऐडसेंस के मोटी कमाई की टिप्स पढ़कर उल्टा-सीधा काम करने लगते हैं वो अपनी ऐडयूनिट के ऊपर या ऐसे शब्द या वाक्य लिखते हैं जो ब्लॉग पर आने वाले पाठकों को उन्के विज्ञापनों पर क्लिक करने के लिए उकसाते हैं। ऐसा करना भी ऐडसेंस के नियमों का उल्लंघन है।

4. पॉपअप, आइफ़्रेम या फ्लोटिंग विज्ञापन न लगायें

Avoid pop-up, iframe or floating ads

कुछ लोग अपनी साइट पर ऐडसेंस विज्ञापनों को पॉपअप, आइफ़्रेम या फ्लोटिंग रूप में लगाते हैं जिससे विज्ञापन पाठक की नज़र में हमेशा बना रहे और उस पर क्लिक करने की सम्भावना बढ़ जाये लेकिन शायद आप नहीं जानते कि ऐसा करने से आपका ऐडसेंस एकाउंट बंद हो सकता है।

5. चित्रों के ऊपर या पोस्ट में विज्ञापन छुपाकर न लगायें

Don’t blend ads with images or text

कुछ ज़्यादा ही समझदार बनने वाले ब्लॉगर कोशिश करते हैं कि वो ऐडसेंस विज्ञापन को किसी चित्र के ऊपर इस प्रकार लगायेंगे कि उसे देखने के लिए पाठक को विज्ञापन पर क्लिक करना ही पड़ेगा या वे अपनी पोस्ट में विज्ञापन को इस प्रकार ब्लेंड करते हैं कि पाठको पोस्ट और विज्ञापन के बीच अंतर ही नहीं पता चलता है।

इस प्रकार की सभी हरक़तें ऐडसेंस पॉलिसी का उल्लंघन करती हैं अत: ऐसा कुछ करने से बचें।

6. दूसरी कम्पनी के विज्ञापनों का प्रयोग

Your second advertising partner

यदि आप ऐडसेंस विज्ञापन के साथ अन्य कम्पनियों के विज्ञापन लग रहे हैं तो आपको यह सौ प्रतिशत पक्का करना होगा कि वे ऐडसेंस पॉलिसी का पालन करते हैं नहीं तो आपका ऐडसेंस खाता निरस्त होते देर नहीं लगेगी। गूगल के साथ काम करने वाले कुछ विज्ञापन हैं – मीडिया.नेट, इनफ़ोलिंक्स, विजलिंक

7. ऐडसेंस कोड से छेड़खानी

Avoid ad unit code manipulation

यदि आपको कोडिंग आती है और आप ऐडसेंस कोड के साथ छेड़खानी करके उससे झटपट ढेर सारी कमाई करना चाहते हैं तो यह ऐडसेंस के नियमों के विरुद्ध है इसलिए ऐडसेंस ऐड यूनिट को बिना किसी बदलाव के प्रयोग करें।

यदि आप ऐडसेंस ऐड यूनिट के आकार को हर स्क्रीन के लिए सेट करना चाहते हैं तो इसके रिस्पॉसिव ऐड यूनिट का ही प्रयोग करें।

8. चोरी के लेख या कॉपीराइट सामग्री का अनाधिकारिक प्रयोग

Don’t publish copyrighted material

यदि आप दूसरों के ब्लॉग से कोई सामग्री चुराकर प्रकाशित कर रहे हैं या किसी की कॉपीराइटेड सामग्री को बिना अनुमति के प्रयोग कर रहे हैं तो इस स्थिति में भी आपका ऐडसेंस एकाउंट बंद हो सकता है।

इसलिए ब्लॉग पर सिर्फ़ अपनी सामग्री ही प्रकाशित करें।

9. ब्लॉग पर अनुचित सामग्री का प्रकाशन

Don’t publish illegal content

यदि आप अपने ब्लॉग पर व्यस्क, हिंसक, जाति-पाति, हैकिंग, क्रैक्ड सॉफ़्टवेयर, गैम्बलिंग, मद्यपान, धूम्रपान, ड्रग, हथियार सामग्री आदि के बारे में कुछ भी प्रकाशित करते हैं तो ऐडसेंस एकाउंट बंद होने की पूरी सम्भावना रहती है। गूगल ऐडसेंस ऐसी साइटों पर विज्ञापन लगाने की अनुमति नहीं देता है।

10. असमर्थित भाषा की साइट पर विज्ञापन

Don’t place ads on unsupported language blog

यदि आप उस भाषा में ब्लॉग लिख रहे हैं जिन भाषाओं में ऐडसेंस विज्ञापन प्रदान नहीं करता है तो आपको ऐसे ब्लॉग पर विज्ञापन कभी नहीं लगाना चाहिए। यदि आप जानना चाहते हैं कि गूगल AdSense किन भाषाओं का समर्थन करता है तो यहाँ क्लिक करें

11. विज्ञापन को ईमेल में भेजना

अगर कोई ऐडसेंस पब्लिशर ये सोचता है कि वह ऐड यूनिट को चुपके ईमेल में लगा देगा और उस पर क्लिक आने से उसकी कमाई हो जाएगी तो उसका ऐसा सोचना बिल्कुल ग़लत है। आप कभी भी यह ग़लत मत करें वरना अकाउंट बंद हो जाएगा और दुबारा शायद कभी न मिले।

12. पेड ट्रैफ़िक

आज कल लोग पैसे देकर अपने ब्लॉग पर ट्रैफ़िक बढ़ा रहे हैं। गूगल ऐडसेंस के नज़रिए से ऐसा करना आपको भारी पड़ सकता है। इसलिए पेड ट्रैफ़िक वाले ब्लॉग पर ऐडसेंस लगाने से बचें।

13. ऐड को कंटेंट साथ मैच कराना

ऐडसेंस एड का रंग और आकार बदलने के लिए आप स्वतंत्र हैं। लेकिन आपको कभी भी ऐड को इस तरह नहीं लगाना चाहिए कि रीडर्स यह न समझ पाएं कि विज्ञापन कहाँ है और कंटेंट कहाँ तक है। इस काम के लिए आपका खाता बंद किया जा सकता है।

अतिरिक्त जानकारी

  • आज कल नई थीम्स में स्टिकी साइडबार का चलन है। लेकिन आपको स्टिकी साइडबार में ऐड नहीं लगाने चाहिए।
  • यदि आप यूटूब विडियो से संबंधित कोई ब्लॉग चलाते हैं तो आपको उस वीडियो के बारे में 100-200 शब्दों की जानकारी देनी चाहिए। जिससे कंटेंट वैल्यू ऐडेड हो जाए।
  • ऐड को 404 एरर पेज, एग्ज़िट पेज, थैंक यू पेज या फिर लॉगिन पेज पर कभी मत लगाएँ।

अगर आपका ऐडसेंस डिसेबल हुआ है तो यह ऐडसेंस रिकवरी टिप्स ज़रूर पढ़ें।