ऐडसेंस ए/बी टेस्टिंग से कमाई बढ़ाने का तरीक़ा

767

आपने पहले भी A/B Testing के बारे में सुना होगा। इससे हाई परफ़ॉर्मेंस पेजों, ऐड यूनिटों, डिज़ाइंस और बहुत सी बातों की जानकारी एकत्र की जाती है। बहुत सी केस-स्टडीज़ दर्शाती हैं कि किसी तरह की डिज़ाइन और काल टू एक्शन काम करता है, लेकिन मेरे भाई हर ब्लॉग दूसरे ब्लॉग से अलग होता है। ये ब्लॉगर्स की ज़िम्मेदारी है कि वे अपने ब्लॉग पर ऐडसेंस ए/बी टेस्टिंग _ AdSense A/B Testing करके देखें। जब गूगल ऐडसेंस की बात आती है तो हमारे सामने बहुत से चैलेंज और प्रश्न आ खड़े होते हैं:

– इमेज, टेक्स्ट या इमेज/टेक्स्ट किस तरह का ऐड फ़ॉर्मेट बढ़िया काम करेगा?
– ऐड यूनिट का बॉर्डर रखना चाहिए या हटाना देना चाहिए?
– किसी साइज़ की ऐड यूनिट किस जगह अच्छा काम करेगी।
– या फिर ऐसे ही बहुत से प्रश्न जिनके उत्तर अलग अलग साइटों के लिए अलग होते हैं।

और, इस बात का जवाब जानने के लिए स्प्लिट टेस्टिंग _ Split Testing करनी होगी। इसका मतलब है, ऐड यूनिट का रंग बदलना और उसकी स्टाइल बदलकर टेस्ट करना करना चाहिए।

ऐडसेंस ए/बी टेस्टिंग
AdSense A/B Testing

ऐडसेंस ए/बी टेस्टिंग से बेस्ट ऐड यूनिट जानना

कुछ दिन पहले ही ऐडसेंस डैशबोर्ड पर वह विकल्प आ गया है, जिससे बिना ऐड कोड में कोई बदलाव किए आप ऐडसेंस ए/बी टेस्टिंग कर सकते हैं। यह नया फ़ीचर पहले से बनी हुई या नई बनाई हुई ऐड यूनिट के लिए इस्तेमाल किया जा सकता है। इसके द्वारा आप ऐड यूनिट के अलग-अलग टेस्ट कर सकते हैं। इससे आपको बेस्ट परफ़ार्मिंग ऐड यूनिट मिल जाएगी। आइए जानते हैं कि यह टेस्ट कैसे काम करता है:

ऐडसेंस डैशबोर्ड में Optimization टैब पर क्लिक कीजिए। इसके अंतर्गत आपको Experiments का विकल्प मिलेगा, जहाँ आप नया Experiment शुरु कर सकते हैं।

AdSense experiments
Create AdSense experiments

इस Experiment का नाम रखकर एक Ad Unit और Experiment Setting चुनिए। अगर Image और Text Ad के बीच तुलना करना चाहते हैं तो ड्राप डाउन से मनचाहा विकल्प चुनिए। इसके बाद Create बटन पर क्लिक करके ए/बी टेस्टिंग शुरु कीजिए।

Ad unit settings experiment
Ad unit settings experiment

इसी तरह आप Text Ad Style के लिए भी टेस्ट कर सकते हैं। नीचे दी गए Variation विकल्प के अंतर्गत आप ऐड यूनिट का रंग, बॉर्डर और फ़ॉर्मेट सेट कर सकते हैं। मौजूदा यूनिट में यह बदलाव करके आप असली ऐड यूनिट के साथ उसकी A/B Testing कर सकते हैं। इससे आपको पता चल जाएगा कि कौन सी / किस तरह की ऐड यूनिट बढ़िया कमाई दे रही है।

Text ad style testing
Text ad style testing

Allow and Block Experiment

जैसा कि आपको पता ही होगा कि अब किसी कैटेगरी के विज्ञापनों को साइट पर बंद किया जा सकता है। आप गूगल डैशबोर्ड पर इन कैटगरीज़ को General और Sensitive के नाम से देख सकते हैं। सभी कैटेगरीज़ आपको Allow & Block Ads के अंतर्गत मिल जाएंगी।

Allow and block experiment
Allow and block experiment

AdSense A/B Testing Importance

अगर आप ऐडसेंस को अपनी कमाई का मुख्य स्रोत बनाना चाहते हैं, तो आपको ऐडसेंस ए/बी टेस्टिंग को क़तई इग्नोर नहीं करना चाहिए। आपको भूलना नहीं चाहिए, जो एक ब्लॉगर के लिए बेस्ट वह आपके लिए बेस्ट हो इसकी कोई गारंटी नहीं है। इसलिए आपको एक एक्सपेरीमेंट रन करके पता कर लेना चाहिए कि कौन सी ऐड यूनिट किस रंग में आपके पाठकों से ज़्यादा क्लिक करवा सकती है। सही वेरीएशन मिल जाने के बाद आपको अधिक सीटीआर मिलेगा और आप उसी ऐड यूनिट से कई गुना कमा पाएंगे।

अगर आप दो अलग साइज़ के ऐड यूनिट का A/B Testing करना चाहते हैं, तो इसके लिए AdRotate Pluging (वर्डप्रेस यूज़र्स के लिए) काम का है। जो आपको एक ही स्पॉट पर अलग अलग साइज़ के विज्ञापन दिखने और प्रयोग करने की सुविधा देता है। इससे आपको उस स्पॉट के लिए सही ऐड साइट की जानकारी हो जाती है।

आपको AdSense A/B Testing से कितना फ़ायदा मिला है, ये बात हमारे पाठकों के साथ ज़रूर शेअर कीजिए।